Ads Here

Teri Jhilmilati Aankhon Mein - Beautiful Shayari On Eyes

कोई आग जैसे कोहरे में दबी-दबी सी चमके,
तेरी झिलमिलाती आँखों में अजीब सा शमा है।
Koi Aag Jaise Kohre Mein Dabi-Dabi Si Chamke,
Teri Jhilmilati Aankhon Mein Ajeeb Sa Shama Hai.

निगाहे-लुत्फ से इक बार मुझको देख लेते है,
मुझे बेचैन करना जब उन्हें मंजूर होता है।
Nigah-e-Lutf Se Ek Baar Mujhko Dekh Lete Hain,
Mujhe Bechain Karna Jab Unhein Manjoor Hota Hai.


 

होता है राजे-इश्को-मोहब्बत इन्हीं से फाश,
आँखें जुबाँ नहीं है मगर बेजुबाँ नहीं।
Hota Hai Raz-e-Ishq-o-Mohabbat Inhien Se Fash,
Aankhein Jubaan Nahi Hain Magar Bejubaan Nahi.

कोई दीवाना दौड़ के लिपट न जाये कहीं,
आँखों में आँखें डालकर देखा न कीजिए।
Koyi Deewana Daud Ke Lipat Na Jaye Kahin,
Aankho Mein Aankhein Daal Kar Dekha Na Kijiye.

देखो न आँखें भरकर किसी के तरफ कभी,
तुमको खबर नहीं जो तुम्हारी नजर में हैं।
Dekho Na Aankhein Bhar Ke Kisi Ki Taraf Kabhi,
Tumko Khabar Nahi Jo Tumhari Najar Mein Hai.

Random Quote

A priest is he who lives solely in the realm of the invisible for whom all that is visible has only the truth of an allegory.

Ads Here